बाढ़ से एक करोड़ दस लाख लोग हुए प्रभावित, सिर्फ बिहार में 159 मौतें, रेल लाइन-हाइवे सब हुआ पानी-पानी

उत्तरी भारत के अधिकांश हिस्सों में बाढ़ की तबाही भवायह होती जा रही है. सबसे ज्यादा प्रभावित बिहार और पूर्वी उत्तर प्रदेश के इलाके हुए हैं. सिर्फ बिहार में बाढ़ से अबतक 159 लोगों की मौत हो चुकी है. बिहार के 16 जिले बाढ़ से प्रभावित हैं और एक करोड़ की आबादी बाढ़ के पानी में घिरी हुई है. बिहार में गंडक और पूर्वी यूपी में राप्ती नदी उफान पर है और आस-पास के इलाकों में पानी घुस गया है. बिहार के कई जिले टापू बन चुके हैं तो रेल-सड़क यातायात भी पूरी तरह बाधित है.

बाढ़ से एक करोड़ दस लाख लोग हुए प्रभावित, सिर्फ बिहार में 159 मौतें, रेल लाइन-हाइवे सब हुआ पानी-पानी

दक्षिण एशिया में गंभीर मानवीय संकट

देश में 9 राज्य बाढ़ से प्रभावित हैं. रेडक्रॉस सोसाइटी के आंकड़ों के अनुसार भारत में प्रभावित होने वालों की संख्या एक करोड़ 10 लाख से अधिक है. भारत, नेपाल और बांग्लादेश में मानसूनी बाढ़ से एक करोड़ 60 लाख से अधिक लोग प्रभावित हुए हैं और तीनों देशों में 400 से अधिक लोगों की मौत हुई है. रेडक्रॉस ने इसे दक्षिण एशिया में एक गंभीर मानवीय संकट बताया है.

ये भी पढ़े: #Video: जब बिग बॉस सीजन-11 के प्रोमो में सलमान ने किया अपनी शादी को लेकर ये बड़ा खुलासा…!

बिहार की ग्राउंड रिपोर्ट

बिहार के 16 जिलों में 98 लाख लोग पानी में घिरे हुए हैं. बाढ़ से सबसे ज्यादा बेहाल है अररिया जिला. यहां के सैंकड़ों गांव पानी में डूबे हुए हैं. अबतक जिले में 23 लोगों की मौत हो चुकी है. अररिया में अचानक पुल टूटने से बाढ़ में बहे एक महिला और दो बच्चों की तस्वीरे वायरल हुई थीं. कोसी नदी का कहर भी कम नहीं है. पानी की लहरों से नेशनल हाईवे 327 पर पुल में कटाव हो गया. नदी पार करने के लिए NDRF की नाव का इस्तेमाल करना पड़ रहा है. कटिहार की करीब 13 लाख आबादी बाढ़ से प्रभावित हुई है. सीतामढ़ी, खगड़िया, मोतिहारी में भी बाढ़ का तांडव है. समस्तीपुर में बागमती नदी उफान पर है. जिला मुख्यालय से करीब दर्जन भर गांवों का संपर्क टूट गया है.

रेस्क्यू में जुटी एनडीआरएफ, एयरफोर्स

प्रभावित इलाकों से लोगों को निकालने के लिए एनडीआरएफ और सेना की कई टीमों जुटी हुई हैं. एयरफोर्स के विमानों से प्रभावित इलाकों में फंसे लोगों तक खाना-पानी और जरूरी सामान पहुंचाए जा रहे हैं. मधुबनी के बाढ़ प्रभावित इलाके का डीएम-एसपी ने दौरा किया और राहत कैंपों में खुद खाना खाकर गुणवत्ता जांची.

यूपी के 22 जिले प्रभावित

पूर्वी उत्तर प्रदेश के 22 जिले भी बाढ़ से बेहाल हैं. 12.80 लाख लोग प्रभावित हुए हैं. अब तक 40 लोगों की जान जा चुकी है. 17 कालम NDRF की UP में राहत और बचाव कार्य मे लगी हैं. बाढ़ राहत के लिए 17 कंपनी PAC भी लगी है. गोरखपुर के कई इलाकों में पानी घुस गया है. नेपाल से जोड़ने वाले NH-29 पर पानी आ गया है. यूपी के महाराजगंज में नेपाल से छोड़े गए पानी से भीषण तबाही मच गई है. जिले में अब तक सैलाब मे 10 लोगों की जान ले ली है. बाराबंकी, गोंडा के अलावा बहराइच में भी सैलाब का कहर है. ज्यादातर गांवों में लोगों को सरकारी मदद का इंतजार है.

असम और पूर्वोत्तर के अन्य राज्यों में भी असर

बाढ़ ने पूर्वोत्तर राज्यों में भी कहर बरपा रखा है. असम के 20 जिलों के 2,200 से ज्यादा गांव अभी भी पानी में डूबे हुए हैं. मरने वालों की संख्या 144 तक पहुंच चुकी है. असम जुलाई से बाढ़ की तबाही झेल रहा है. असम के मोरीगांव स्थित वाइल्ड लाइफ सेंचुरी में हर ओर सैलाब का संकट है. इंसान ही नहीं वन्य जीव भी परेशानी झेल रहे हैं.

You May Also Like

English News