अभी-अभी: रेल हादसे के मामले में एफआईआर दर्ज, राहत बचाव कार्य जारी!

मुजफ्फरनगर: यूपी के मुजफ्फरनगर के खतौली में उत्कल एक्सप्रेस हादसे के मामले में कोतवाली में अज्ञात लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज करायी गयी है। यह एफआईआर खतौली चौकी प्रभारी ने दर्ज कराया है। मुजफ्फरनगर के खतौली रेलवे स्टेशन के पास कल देर शाम उत्कल एक्सप्रेस के दस डिब्बे अचानक पटरी से उतरने के मामले में आज मुकदमा दर्ज कराया गया है।

खतौली के चौकी इंचार्ज अजय सिंह ने मुजफ्फरनगर कोतवाली में अज्ञात लोगों के खिलाफ केस दर्ज कराया है। चौकी इंचार्ज अजय सिंह ने आज आइपीसी की कई धाराओं सहित 304ए के के तहत मामला दर्ज किया गया है। रेल राज्यमंत्री मनोज सिन्हा ने इस हादसे की जांच के आदेश दिए हैं। वहां घटनास्थल पर पटरियां टूटी हुई मिली थीं।

मरम्मत कार्य की बात भी सामने आई लेकिन अब रेलवे इस लापरवाही पर मौन है। मृतक के परिवार के लोगों को 3ण्5 लाख रु की आर्थिक मदद दी जाएगी। गंभीर रूप से घायलों को 75 हजार और सामान्य रूप से घायलों को 25 हजार रुपए दिए जायेंगे।
हादसे के बाद से राहत कार्य चरम पर है।

रेलवे प्रशासन को भरोसा है कि आज देर रात तक यहां से एक बार फिर रेल यातायात शुरू हो जाएगा। खतौली में कल शाम को हुए बड़े हादसे के बाद रेल प्रशासन राहत कार्य में युद्धस्तर पर जुटा है। आज दिन में रेलवे ट्रैक से पलटे ट्रेन के डिब्बे हटाकर व्यवस्था सुचारु करने के प्रयास जारी हैं। यहां पर एनआरडीएफ के करीब चार सौ कर्मचारी काम में जुटे हैं।

बेपटरी हुईं तेरह में से नौ बोगियां ट्रैक से हटा ली गई हैं। रेलवे के अफसरों ने बताया कि 330 मीटर ट्रैक नया बनेगा। ट्रैक पर आज देर रात तक यातायात संचालन सुचारु होने की उम्मीद है। अभी तक इस मामले में हादसे की असली वजह निकल कर सामने नहीं आयी है। पर सूत्र ऐसा बता रहे है कि रेलवे लाइन की मरम्मत हो रही थी और इसके दौरान बरती गयी लापरवाही से यह रेल हादसा हुआ। वहीं इस रेल हादसे को लेकर यूपी एटीएस भी आतंकी कनेक्शन तलाशने में जुटी है।

You May Also Like

English News