Big News: लखनऊ जिला जेल में बेचा जा रहा है नशीला पदार्थ, सनसनीखेज खुलासा!

लखनऊ: राजधानी की जिला जेल में खुलेआम नशीला पदार्थ बेचने का कारोबार चल रहा है। इस बात का खुलासा उस वक्त हुआ जब पुलिस ने एक मादक पदार्थ तस्कर को गिरफ्तार किया। उसने बताया कि कचहरी पेशी पर आने वाले एक अपराधी को नशीला पदार्थ सप्लाई करता था। इसके बाद उक्त अपराधी वहीं नशीला पदार्थ जेल मेें ले जाकर बेचता था। पुलिस ने पकड़े गये तस्कर के पास जेल में बंद अपराधी की बाइक भी मिली है।


एसपी पश्चिम विकास चंद्र त्रिपाठी ने बताया कि शुक्रवार को वजीरगंज पुलिस कचहरी परिसर में बने लॉकअप की चेकिंग कर वापस लौट रहे थे। इस बीच पुलिस को गेट नम्बर चार के पास एक संदिग्ध युवक नज़र आया। पुलिस जैसे ही उसकी तरफ बढ़ी आरोपी युवक पुलिस को देखते ही भागने लगा। इस पर पुलिस ने आरोपी युवक को दौड़ाकर पकड़ लेसा दफ्तर के पास से पकड़ लिया।

पुलिस ने जब उसकी तलाशी ली तो उसके पास से 50 पुडिय़ा स्मैक और 27 पुडिय़ा गांजा मिला। पूछताछ में पकड़े गये आरोपी ने अपना नाम हुसैनगंज निवासी विकास बताया। पुलिस ने आरोपी के पास से एक बाइक भी बरामद की।

जेल में सप्लाई होता था नशीला पदार्थ
पूछताछ में पकड़े गये विकास ने बेहद ही चौकाने वाला खुलासा किया। उसने बताया कि जेल में बंद एक अपराधी राजा भारती जब भी कोर्ट पेशी पर आता था तो वह उससे मिलने के लिए कचहरी परिसर में बने लॉकअप में आता था। वहीं पर वह राजा भारती को नशीला पदार्थ देता था। इसके बाद आरोपी राजा वहीं नशीला पदार्थ लेकर जेल में बंद बंदियों के हाथ बेचता था। आरोपी विकास के पास से मिली बाइक भी हिस्ट्रीशीटर राजा भारती कि है जो उसकी मां के नाम पर है।

जेल की सुरक्षा व्यवस्था पर फिर उठे सवाल
जेल में मादक पदार्थ की सप्लाई और उसकी बिक्री ने एक बार फिर जेलों की सुरक्षा-व्यवस्था पर सवाल खड़ कर दिये हैं। हाल में ही माफिया डान मुन्ना बजरंगी की बागपत जेल में दिनदहाड़े गोली मारकर हत्या के बाद प्रदेश की जेलों की सुरक्षा व्यवस्था पर सवाल खड़े हुए थे। जेल में खराब सुरक्षा व्यवस्था पर घिरी योगी सरकार ने जेल में सुधार और बेहतर सुरक्षा व्यवस्था के लिए एक कैमिटी का गठन किया था। अभी कैमिटी अपना काम कर रही है। इस बीच लखनऊ जिला जेल में मादक पदार्थ की सप्लाई और उसकी बिक्री का मामला बेहत ही गंभीर है। सवाल उठने लगा है पेशी पर आने वाला आरोपी कैसे बिना चेकिंग के जेल के अंदर मादक पदार्थ ले जा सकता है। कहीं इस पूरे खेल में जेल विभाग से जुड़े लोगों की मिलीभगत तो नहीं है।

You May Also Like

English News