CBSE पेपर लीक: कल हो सकती है मैथ-इकोनॉमिक्स परीक्षा की नई तारीखों का ऐलान

सीबीएसई दोबारा होने वाली परीक्षा की तारीखों की घोषणा आज शाम तक करने वाली थी, लेकिन अब ये फैसला कल तक के लिए टाल दिया गया है. सूत्रों के अनुसार सीबीेएसई अंतिम निर्णय कल की बैठक के बाद लेगा. उसके बाद ही मैथ और इकोनॉमिक्स की दोबारा होने वाली परीक्षा की तारीखों का ऐलान किया जाएगा.CBSE पेपर लीक: कल हो सकती है मैथ-इकोनॉमिक्स परीक्षा की नई तारीखों का ऐलानबता दें, सीबीएसई ने पेपर लीक हो जाने के बाद आधिकारिक वेबसाइट cbse.nic.in पर नोटिफिकेशन जारी करते हुए लिखा था कि वह अगले एक हफ्ते में नई तारीखों का ऐलान करेगी. हालांकि अभी तक इसे लेकर सीबीएसई की तरफ से कोई आधिकारिक बयान जारी नहीं हुआ है.

10वीं, 12वीं के पेपर लीक होने के मामले में शुक्रवार को एनएसयूआई के सदस्यों ने दिल्ली में प्रदर्शन भी किया. बाद में एनएसयूआई और एबीवीपी के प्रतिनिधिमंडल ने अलग-अलग जाकर मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर से मुलाकात की थी. प्रकाश जावड़ेकर से मुलाकात के बाद एनएसयूआई के राष्ट्रीय अध्यक्ष फिरोज खान ने कहा जावड़ेकर ने इन लोगों को यह आश्वासन दिया है कि आज शाम तक नई तारीखों का ऐलान कर देंगे. अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के प्रतिनिधिमंडल ने भी यही बताया.

वहीं प्रकाश जावड़ेकर के सामने एनएसयूआई के छात्रों ने मांग रखी कि वह सीबीएसई के चीफ को बर्खास्त किया जाए क्योंकि पेपर लीक होने के लिए छात्र नहीं CBSE दोषी है. उन्होंने यह भी कहा कि एक रिटायर्ड न्यायाधीश से इस पूरे मामले की जांच कराई जाए.

वहीं छात्रों ने प्रकाश जावड़ेकर के सामने यह मांग भी रखी गई कि दोबारा परीक्षा कराते वक्त छात्रों को यह छूट दी जाए कि जो छात्र दोबारा परीक्षा में शामिल नहीं होना चाहते हैं उन्हें बाकी विषयों में पाए गए नंबर के आधार पर औसत नंबर देकर पास किया जा सकता है. बता दें, मैथ और इकोनॉमिक्स की दोबारा परीक्षा होने की वजह से करीब 34 लाख छात्र प्रभावित हुए हैं. 

प्रकाश जावड़ेकर ने दिलाया था भरोसा

एनएसयूआई के छात्रों के मुताबिक प्रकाश जावड़ेकर ने उन्हें भरोसा दिलाया कि इस मामले में दोषियों की पहचान की जाएगी और मामले की गहराई से जांच भी करवाई जाएगी. फिरोज खान के मुताबिक प्रकाश जावड़ेकर ने कहा था कि नई तारीखों का ऐलान आज ही कर दिया जाएगा लेकिन ऐसा नहीं हुआ. सूत्रों के मुताबिक नई तारीखों का ऐलान करने में दिक्कत इसीलिए आ रही है क्योंकि एक के बाद एक कई प्रतियोगिता की परीक्षाएं होनी है जिनकी तारीखों का ऐलान पहले से हो चुका है और 10वीं और 12वीं के बहुत से छात्र एक परीक्षा में भी शामिल हो रहे हैं.

You May Also Like

English News