Breaking News

विपक्ष पर केशव प्रसाद मौर्य ने बोला हमला, कही ये बड़ी बात

उत्तर प्रदेश में अगले विधानसभा चुनाव साल 2022 में होने वाले हैं. ऐसे में अब राजनीतिक पार्टियों ने एक-दूसरे पर हमला बोलने का काम तेज कर दिया है, जिसके बाद अब लगभग सभी पार्टियां एक-दूसरे पर तंज कसती हुई नजर आ रही हैं. इस बीच उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने भी विपक्ष पर जमकर निशाना साधा है. यही नहीं, उन्होंने विपक्ष पर हमलावर होते हुए ये भी कहा कि एक बार फिर भारतीय जनता पार्टी 300 से अधिक सीटें जीतने वाली है. मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, उन्होंने इस बात पर भी जोर दिया कि विपक्ष काफी आलसी है. यही नहीं, विपक्ष तो बस सरकार ट्विटर पर ही बनाते और गिराते रहता है.

इसके अलावा एक इंटरव्यू के दौरान यूपी के डिप्टी सीएम ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से राजनीतिक प्रतिद्वंद्विता पर हुए सवाल का भी जवाब दिया. उन्होंने कहा कि इसको लेकर विपक्ष जो कुछ भी कह रहा है वो महज अफवाह है और कोरी कल्पना है और इससे ज्यादा कुछ नहीं. साथ ही, केशव प्रसाद मौर्या से ये सवाल भी किया गया था कि हाल में हुए पंचायत चुनाव को लेकर बीजेपी पर ये आरोप लगा है कि पार्टी ने दूसरे प्रत्याशियों को पर्चा ही नहीं भरने दिया. तो क्या ऐसे में सरकारी तंत्र का गलत इस्तेमाल किया है. इसके जवाब में मौर्या ने इस आरोप को सिरे से खारिज करते हुए कहा कि बड़ी संख्या में उनके जिला पंचायत सदस्य की जीत हुई है.

यही नहीं, बीजेपी के समर्थन में भी कई निर्दलीय हैं. यही नहीं, कई जिलों में तो दूसरे प्रत्याशी पर्चे में खुद की गलतियों की वजह से नामांकन नहीं कर पाए, जिसकी वजह से निर्विरोध बीजेपी प्रत्याशी को चुना गया है. उन्होंने अपनी बात को जारी रखते हुए आगे कहा कि अगर बीजेपी ने सरकारी तंत्र का गलत तरीके से इस्तेमाल किया होता तो राज्य के 75 जिलों में पार्टी के ही प्रत्याशी जीतते, जबकि बीजेपी के प्रत्याशी 21 जिलों में निर्विरोध जीते हैं और समाजवादी पार्टी का प्रत्याशी इटावा में जीता है. इंटरव्यू के दौरान केशव प्रसाद मौर्या ने बीजेपी की सोशल इंजीनियरिंग पर उठ रहे सवालों के भी जवाब दिए. दरअसल, पार्टी पर ये आरोप है कि उसने चुनाव में पिछड़े वर्ग के लोगों को आगे खड़ा किया लेकिन बाद में उनको सम्मान नहीं मिला. इसपर भी डिप्टी सीएम ने जवाब दिया.

उनका कहना है कि अगर पार्टी द्वारा सम्मान ना मिला होता तो कभी भी कल्याण सिंह उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री ना बनते और ना ही मुझे राज्य के उपमुख्यमंत्री का पद मिलता. इसके साथ ही उन्होंने विपक्ष को तंज कसते हुए कहा कि वो विपक्ष एक ही परिवार के लोगों को मौका देता है, उसके पास अब और कुछ कहने को बचा नहीं है इसलिए तो इस तरह की बातें कर रहा है. यही नहीं, उन्होंने विपक्ष पर सवाल खड़े करते हुए कहा कि क्या किसी और ने सत्ता में रहते हुए डिप्टी सीएम नियुक्त किए?

English News

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com