Breaking News

1 जुलाई से जेब पर पड़ेगी महंगाई की मार, एसबीआई कर रही ये बदलाव

वित्तीय वर्ष की शुरुआत के बाद काफी बदलाव होते हैं। बैंकिंग सिस्टम के अलावा सरकार भी अमूमन बड़े बदलाव को एक जुलाई से ही लागू करती है। इस बार भी एक जुलाई से काफी बदलाव होने वाले हैं, जिससे आपकी जेब पर असर जरूर पड़ेगा। कुछ बदलाव सहूलियत देंगे तो कुछ मुसीबत बढ़ा देंगे। इसमें बैंकिंग कामकाज से लेकर आपके घर के बजट तक को हिस्सा बनाया गया है। सभी बदलाव से पहले तैयारी कर ली गई लेकिन फिर भी इसमें एक जुलाई के बाद कुछ समस्या की संभावना जताई जा रही है। आइए जानते हैं कौन-कौन से बदलाव के लिए आपको पहले से तैयार रहना होगा।

खाना पकाना हुआ महंगा

पेट्रोल और ईंधन के लगातार बढ़ते दामों के बाद अब रसोई गैस पर भी सरकार दाम बढ़ाने जा रही है। यह बढ़ी हुई कीमतें एक जुलाई से लागू हो जाएंगी। बताया जा रहा है कि एलपीजी गैस सिलेंडर के लिए नई कीमत सरकार की ओर से जारी भी इसी दिन की जाएगी। हालांकि अभी तक यह तय नहीं है कि यह कितने रुपए तक बढ़ाया जाएगा लेकिन तमाम मीडिया रिपोर्ट में बताया जा रहा है कि गैस कंपनियां हर जुलाई में गैस की कीमतों में बढ़ोतरी करती हैं इसे देखते हुए इस बार भी अनुमान लगाया जा रहा है। हालांकि यह एक जुलाई को ही पता चलेगा।

एसबीआइ में खाता है तो जरूर जाने बदलाव

देश के सबसे बड़े सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक भारतीय स्टेट बैंक यानी एसबीआइ भी अपने नियमों में कुछ बदलाव करने जा रहा है। यह बदलाव एक जुलाई से लागू हो जाएंगे। बताया जा रहा है कि इसके तहत बैंक से पैसे निकालने से लेकर अन्य चीजें भी महंगी होंगी। एसबीआइ बैंक शाखा से पैसे निकालने और चेक बुक के नियमों में बदलाव करेगा। एसबीआइ बेसिक बजत खाता में हर महीने चार मुफ्त निकासी ही कर सकेंगे। यह बैंक और एटीएम दोनों से हैं। इसके बाद बैंक मुफ्त निकासी खत्म होने के बाद हर तरह के निकासी पर 15 रुपए के साथ जीएसटी चार्ज लगाकर पैसा वसूल करेगा। यह शुल्क एटीएम और शाखा दोनों से पैसे निकालने पर लागू होगा। साथ ही एसबीआइ के अलावा दूसरे एटीएम से पैसे निकालने पर भी लागू होगा।

बैंक के कुछ और बदलाव

एसबीआइ की ओर से खाता धारकों को वित्तीय वर्ष में सिर्फ दस चेक की कापी मिलती है। अब इसके लिए शुल्क देना होगा। यह 40 रुपए और जीएसटी चार्ज के साथ में होगा। अगर 25 पत्तों की चेक लेते हैं तो 75 रुपए जीएसटी के साथ देना होगा। आपातकाल में चेक बुक लेते हैं तो 10 पेज के लिए 50 रुपए और जीएसटी चार्ज देना होगा। वरिष्ठ नागरिकों से कोई शुल्क नहीं लिया जाएगा। बीबीएसडी खाता धारक अगर बैंक शाखा से पैसे निकालते हैं तो उन्हें शाुल्क नहीं देना होगा।

आयकर के नए नियम

आयकर विभाग भी कर न चुकाने वालों के लिए एक जुलाई से अतिरिक्त चार्ज लगाएगा। जानकारी के मुताबिक इनकम टैक्स रिटर्न न भरने वालों को दोगुना टीडीएस चुकाना पड़ सकता है। सिर्फ अंतिम समय 30 जून तक का दिया गया है। इस नियम के चलते रिटर्न फाइन न करने वालों को एक और समय दिया गया है। रिटर्न फाइल करने की तारीख 31 जुलाई है और यह तारीख 30 सितंबर तक बढ़ा दी गई है। इसलिए समय पर चुकाने पर अतिरिक्त शुल्क की मार से बच सकते हैं।

इस बैंक का बदलेगा कोड

जानकारी के मुताबिक केनरा बैंक और सिंडीकेट बैंक का आइएफएससी कोड एक जुलाई से बदल जाएगा। सिंडिकेट बैंक के सभी ग्राहक अपने शाखा से कोड ले सकते हैं। केनरा बैंक की ओर से सिर्फ यही कहा गया है कि बैंक के विलय के बाद कोड में बदलाव किया गया है इसी के तहत यह प्रक्रिया है। अगर कोड ग्राहकों ने नहीं लिया तो उनको बैंक की ओर से मिलने वाले आरटीजीएस, एनइएफटी और अन्य सुविधाएं नहीं मिल पाएंगी। खासकर आनलाइन सेवाएं।

GB Singh

English News

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com