सड़कों पर भक्त बना रहे है रोटियां, और फुटपाथ पर सो रही है महिलाएं

पंचकूला.डेरामुखी की पेशी 25 अगस्त को है, लेकिन समर्थक तीन दिन पहले से ही पंचकूला में डटे हुए हैं। नाकेबंदी और तमाम प्रयासों के बाद भी पंचकूला में लाखों डेरा प्रेमी आ गए हैं। सड़कों पर भक्त रोटियां बना रहे हैं। बाबा की भक्ती ऐसी की फुटपाथ पर महिलाएं रातें गुजार रहीं हैं। कुछ ऐसे हैं शहर के हालात…
सड़कों पर भक्त बना रहे है रोटियां, और फुटपाथ पर सो रही है महिलाएं
जान चली जाए लेकिन दर्शन के बिना कहीं नहीं जाएंगे
पुलिस ने जब उन्हें पंचकूला छोड़कर जाने को कहा तो डेराप्रेमियों ने कहा कि चाहे उनकी जान चली जाए, वे पिताजी के दर्शन के बिना कहीं नहीं जाएंगे। डेरा प्रेमी पंचकूला में पूरी तैयारी के साथ आए थे। खाने-पीने के लिए राशन और मोबाइल चार्जिंग के लिए बैटरियां साथ लेकर आए हुए थे। डेरा प्रेमी सड़कों और पार्कों में पड़े हुए थे, इसलिए सभी ने ड्यूटियां भी बांटी हुई थीं।
 
पुलिस सुरक्षा में रातभर जागती रही
जब डेरा प्रेमी सो रहे थे तो कुछ उनकी सुरक्षा में रातभर जागते रहे। सेक्टर3 ताऊ देवी लाल स्टेडियम के पीछे इन्होंने अपना कंट्रोल रूम बनाया हुआ था जहां से सभी को अादेश दिए जा रहे थे। वहीं डेराप्रेमियों के खाने-पीने का पूरा इंतजाम था। यही नहीं वहां यह भी आदेश दिए जा रहे थे कि डेरा प्रेमियाें काे जितनी भूख है,उससे कम खाएं ताकि सभी को भोजन मिल सके। शुक्रवार सुबह 4 बजे से डेराप्रेमियों को चाय-बिस्किट दिए गए गए। इसके बाद सभी डेराप्रेमियों ने संत राम रहीम का सिमरन किया जितनी शिद्दत से डेरा प्रेमी डेरामुखी के लिए डटे रहे, पुलिस हाईकोर्ट के आदेशों को पूरा कर पाने में उतनी ही नाकाम रही।
 
रात 11 शालीमार मॉल के पास सड़क पर बैठे समर्थक
गुरुवार रात 11 बजकर 5 मिनट पर पंचकूला सेक्टर5 में डेरा समर्थकों ने थोड़ी देर के लिए रोड जाम कर नारेबाजी की। पहले कुछ समर्थकों ने हंगामा किया, इतने में हजारों समर्थकों ने सड़क पर बैठकर नारेबाजी शुरू कर दी। स्थिति बिगड़ती देख मौके पर पुलिसकर्मी बाकी सिक्योरिटी फोर्स पहुंच गई। फोर्स को अपनी तरफ आता देख समर्थक खुद ही उठकर सामने की मार्केट की तरफ की पार्किंग और पार्क में चले गए।
 
54 एंबुलेंस रहेंगी तैयार, 104 पर लें हेल्थ संबंधी मदद
आज के माहौल को ध्यान में रखते हुए सभी सरकारी हॉस्पिटलों में ओपीडी व इमरजेंसी खुली रहेंगी। इसके लिए सारे स्टाफ की छुट्टियां भी रद्द कर दी गई हैं। 54 एंबुलेंस जिले के लोगों की सेवा में तैनात रहेंगी। फोन नंबर पर 108 डायल करके एंबुलेंस की सुविधा ली जा सकेगी। जबकि हेल्थ संबंधी किसी दूसरी मदद के लिए 104 नंबर डायल करना होगा। शुक्रवार के हाई अलर्ट के दौरान सेहत महकमे ने सभी सरकारी अस्पतालों के साथ-साथ शहर के दोनों मेडिकल कॉलेजों (डीएमसी व सीएमसी) और अन्य बड़े प्राइवेट हॉस्पिटलों को भी अलर्ट पर रखा है।
 
इंटर स्टेट रूटों पर बंद रहेंगी बसें
पीआरटीसी महकमे ने 25 अगस्त को सतर्कता बरतने के लिए सभी डिपो को हिदायतें जारी कर रखी हैं। वहीं, हर डिपो में कंट्रोल रूम स्थापित करते हुए 24 घंटे वहां जिम्मेदार अफसर की तैनाती के आदेश दे रखे हैं। इसके अलावा पंजाब रोडवेज-पनबस महकमे ने भी इंटर स्टेट रूटों की सर्विस बंद करते हुए 25 अगस्त को माहौल देखते हुए ही बस सर्विस सूबे में चलाने का प्रावधान रखा है। जिला प्रशासन की तरफ से हिदायतों के अनुसार ही सूबे में बसें चलेंगी।
 
स्कूलों और कॉलेजों को कर दिया बंद
ऐेसे में चंडीगढ़-पंचकूला के प्राइवेट स्कूलों और कॉलेजों को बंद कर दिया गया है। वहीं, पंचकूला के व्यापारियों ने दुकानें भी बंद कर दी हैं। लेकिन व्यापारी इस असमंजस में हैं की 25 अगस्त को दुकानें खोले या नहीं। व्यापारी चर्चा कर रहे हैं कि अगर फैसला डेरामुखी के खिलाफ आता है तो कहीं हालात बिगड़ न जाएं। कहीं जाट आरक्षण की तरह हिंसक वारदातें न हो जाएं। इसके लिए दुकानदार पहले से ही इंतजाम कर रहे हैं।

You May Also Like

English News