VIDEO: सिर्फ राहुल द्रविड़ ही ऐसा कर सकते हैं…

नई दिल्ली: भारतीय टीम के एक महान बल्लेबाज और ‘द वॉल’ कहे जाने वाले राहुल द्रविड़ने टेस्ट और वनडे दोनों में शानदार प्रदर्शन किया है. वह वैकल्पिक विकेटकीपर भी रहे. 1996 में राहुल ने टेस्ट में डेब्यू किया और 2012 में उन्होंने अपना अंतिम मैच खेला था. 2018 में राहुल द्रविड़ की कप्तानी में अंडर-19 टीम ने विश्वकप भी जीता है. राहुल अपनी बल्लेबाजी और कोचिंग के साथ-साथ सादगी के लिए भी जाने जाते हैं. मैदान और मैदान के बाहर भी हर कोई उनकी सादगी और जैंटलमैन स्वभाव का कायल है. क्रिकेट की दुनिया में ‘श्रीमान भरोसेमंद’, ‘संकटमोचक’ और ‘भारत की दीवार’ जैसे कई विशेषणों से नवाजे गए राहुल द्रविड़ ने एक बार फिर से साबित करके दिखाया है कि वह ‘डाउन टू अर्थ’ हैं. VIDEO: सिर्फ राहुल द्रविड़ ही ऐसा कर सकते हैं...

दरअसल, आईपीएल 2018 बेंगलुरु और कोलकाता के बीच रविवार (30 अप्रैल) को खेले गए मैच को देखने के लिए राहुल द्रविड़ अपने परिवार के साथ आए थे. यहां एक बार फिर से राहुल द्रविड़ ने अपनी सादगी से सभी का दिल जीत लिया. चिन्नास्वामी स्टेडियम में खेले गए इस मैच को देखने के लिए राहुल अपनी पत्नी विजेता और बेटे समित के साथ आए थे. 

यहां उन्होंने कोई स्पेशल ट्रीटमेंट न लेते हुए स्टेडियम में आम दर्शकों के साथ बैठकर मैच देखा. बता दें कि राहुल द्रविड़ आईपीएल में बेंगलुरु टीम के सबसे पहले कप्तान थे. बावजूद इसके उन्होंने कोई वीआईपी या स्पेशल ट्रीटमेंट नहीं लिया. 

आईपीएल के ऑफिशियल इंस्टाग्राम पेज से राहुल द्रविड़ का यह वीडियो शेयर किया गया है. इस वीडियो में आप देख सकते हैं कि राहुल द्रविड़ ने अपने बेटे को मोबाइल की टॉर्च लाइट खोलकर दी. मैदान में सभी दर्शक मोबाइल की टॉर्च लाइट जलाकर टीम को सपोर्ट कर रहे थे.

बता दें कि ऐसा पहली बार नहीं है कि राहुल द्रविड़ आम लोगों की तरह किसी जगह पहुंचे हों. पिछले साल भी राहुल द्रविड़ की कुछ सादगी भरी तस्वीरें सोशल मीडिया में वायरल हुई थीं, जब वह अपने बच्चों के साथ एक साइंस एग्जीबिशन देखने पहुंचे थे. यहां वह बाकी लोगों की तरह लाइन में खड़े नजर आए. यहां उन्होंने बिल्कुल एक सामान्य नागरिक की तरह अपनी लाइन में खड़े होकर अपनी बारी का इंतजार किया. इस दौरान उन्होंने किसी तरह के सेलिब्रिटी ट्रीटमेंट, कैमरा या बॉडीगार्ड का कोई रौब नहीं दिखाया. वह आम लोगों की तरह वह लाइन में खड़े हुए और अपना नंबर आने पर ही एंट्री ली. यह फोटोज सोशल मीडिया पर बहुत वायरल हो गए थे. लोगों ने इस तस्वीर को रिट्वीट करके द्रविड़ की सादगी की तारीफ की थी.

 द्रविड़ ने पेश की मिसाल, अपना इनाम आधा कराकर दूसरों को करा दिया मालामाल
बता दें कि अंडर-19 विश्वकप जीतने के बाद जब बीसीसीआई ने राहुल द्रविड़ पर इनामों की बारिश की तो भी राहुल द्रविड़ ने एक शानदार मिसाल पेश की थी. अंडर-19 टीम के वर्ल्ड कप जीतने के बाद बीसीसीआई ने मुख्य कोच, सहायक कोच और टीम के खिलाड़ियों के लिए इनामी रकम का ऐलान किया था. इस पर कोचिंग स्टॉफ को दी जाने वाली इनामी रकम में अंतर को लेकर राहुल द्रविड़ ने नाखुशी जाहिर की थी. उन्होंने मांग की थी कि इनाम के तौर पर दी जाने वाली इनामी राशि सभी को बराबर दी जाए. 

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड ने राहुल द्रविड़ की इस मांग को स्वीकार भी किया. राहुल द्रविड़ की इस मांग को स्वीकार करने से उनकी इनामी राशि आधी हो गई थी. बावजूद उन्होंने इस बात की मांग की थी कि सभी को बराबर इनाम दिया जाए. राहुल द्रविड़ के इस काम की अब सोशल मीडिया पर जमकर तारीफ हुई थी.

अंडर-19 वर्ल्डकप जीतने के बाद बीसीसीआई ने राहुल द्रविड़ को 50 लाख, स्पोर्ट स्टाफ के प्रत्येक सदस्य को 30 लाख और टीम के हर मेंबर को 30 लाख रुपए इनाम की घोषणा की थी. इस घोषणा के बाद राहुल द्रविड़ ने इस पर अपनी नाखुशी जाहिर की थी. उन्होंने बोर्ड से अनुरोध किया था कि इनामी राशि में भेदभाव नहीं होना चाहिए.

क्रिस लिन ने कोलकाता को दिलाई चौथी जीत 
ओपनर क्रिस लिन के नाबाद 62 रन की बदौलत कोलकाता ने इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के 11वें संस्करण में रविवार को बेंगलुरु को छह विकेट से हरा दिया. बेंगलुरु ने पहले बल्लेबाजी करते हुए चार विकेट पर 175 रन का मजबूत स्कोर बनाया जिसे कोलकाता ने 19.1 ओवर में चार विकेट पर 176 रन बनाकर हासिल कर लिया. कोलकाता की आठ मैचों में यह चौथी जीत है जबकि बेंगलुरु को सात मैचों में पांचवीं हार का सामना करना पड़ा है. 

 

You May Also Like

English News