ब्लैक मनी: मीट कारोबारी मोईन कुरैशी 31 अगस्त तक ईडी की हिरासत में….

पटियाल हाउस कोर्ट ने मीट कारोबारी मोईन कुरैशी को 31 अगस्त तक ईडी की कस्टडी में भेज दिया है. ईडी ने 14 दिन की रिमांड मांगी थी, लेकिन तमाम दलीलें सुनने के बाद जज ने ईडी को कुरैशी से 5 दिन की हिरासत में लेकर पूछताछ करने की मोहलत दी है. भ्रष्टाचार और काला धन मामले में ईडी ने चर्चित मीट कारोबारी मोईन कुरैशी को पटियाला हाउस कोर्ट में पेश किया था.इससे पहले चर्चित मीट व्यवसाई मोईन कुरैशी को लंबी पूछताछ के बाद प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने गिरफ्तार कर लिया. मोईन की गिरफ्तारी मनी लॉन्ड्रिग एक्ट के तहत की गई है. मोईन पर सीबीआई के कई संवेदनशील मामलों में डील कराने का भी आरोप है.ब्लैक मनी: मीट कारोबारी मोईन कुरैशी 31 अगस्त तक ईडी की हिरासत में....सपा की नई रणनीति: किसी को भी बख्शने के मूड़ में नहीं अखिलेश, अब अध्यक्षों में करेंगे भारी फेरबदल

कोर्ट में इडी ने दलील देते हुए कहा की मोईन कुरेशी को लेकर इडी ने 15 मार्च 2017 को मामला दर्ज किया था. इडी ने कुरैशी के कम्प्यूटर के 14 हार्ड डिस्क को भी जब्त किया है, जिसकी भी जांच होनी है. कोर्ट में इडी ने यह भी कहा है कि मोइन के संपर्क कई बड़े लोग और हवाला कारोबारियों से है. हालांकी ईडी ने अपनी रिमांड कॉपी ने किसी अफसर का नाम तो नहीं लिखा है, लेकिन अदालत के सामने ईडी ने खुलासा किया है कि मोइन के कई सरकारी ब्यूरोक्रेट्स से संबंध हैं और वे अफसर भ्रष्टाचार में मोईन के सहयोगी हैं. मोईन के खिलाफ फेमा और पीएमएलए दोनों के तहत जांच हो रही है.

जाने माने मीट निर्यातक और कारोबारी मोईन कुरैशी लंबे समय से ईडी के रडार पर थे. आरोप है कि सीबीआई के कई मामलों में डील कराने के बदले मोईन ने पैसा लिया. इस मामले में सीबीआई के पूर्व निदेशक एपी सिंह भी मोईन के साथ आरोपी हैं. प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) मोईन के खिलाफ फेमा और पीएमएलए दोनो के तहत जांच कर रहा है.

अपने वीआईपी संबंधो को लेकर चर्चा आए कारोबारी मोईन कुरैशी सीबीआई के पूर्व निदेशकों एपी सिंह और रंजीत सिन्हा के खास बताए जाते हैं. सिन्हा और एपी सिंह के खिलाफ भी मुकदमा दर्ज हो चुका है. कांग्रेस के कई बडे नेताओं से मोईन के संबंध बताए जाते हैं. कुरैशी पर इल्जाम ये भी है कि उन्होंने हवाला के जरिए कांग्रेसी नेताओं का काला धन बाहर भिजवाया था.

You May Also Like

English News