एक बार फिर सहारनपुर में हिंसक वारदात, पथराव, आगजनी, फायरिंग एक की मौत!

सहारनपुर: उत्तर प्रदेश के सरहानपुर जनपद में शुक्रवार की दोपहर एक बार फिर दो समुदाय के बीच हिसंक घटना घटी। इस घटना में दोनोंं तरफ से पथराव, आगजनी और फायरिंग की गयी। वारदात में एक युवक की मौत की भी खबर है। पूरे इलाके में भारी तनाव की स्थिति है और मौके पर पुलिस व प्रशासन के अधिकारी मौजूद हैं।

सहारनपुर पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार बडग़ांव क्षेत्र के अन्तर्गत गांव शब्बीरपुर से आज ठाकुर समाज के लोग समीपवर्ती गांव शिमलाना में महाराणा प्रताप की जयंती के उपलक्ष्य में आयोजित कार्यक्रम में भाग लेने के लिए डीजे की धुन पर डांस करते हुए गांव शिमलाना जा रहे थे। जैसे ही यह लोग गांव शब्बीरपुर में दलित बस्ती से निकल रहे थे तो संत रविदास मंदिर के पास डीजे बजाने का दलितों ने विरोध किया। इसके बाद दोनों पक्षों के बीच में वाद विवाद के बाद गाली-गलौज भी होने लगी। इसके बाद पथराव शुरू हो गया। पथराव में दलित की ओर से एक महिला घायल हुई तो दलितों ने उग्र होकर जबदस्त पथराव शुरू कर दिया।

ठाकुरों की ओर से संत रविदास मंदिर में तोडफोड़ शुरू कर दी गई। डा.अंबेडकर की मूर्ति को भी तोड़ा गया। पथराव के साथ-साथ फायरिंग भी की गयी। इस पथराव व फायरिंग में सुमित पुत्र धर्मपाल उम्र 26 वर्ष को गोली लगी। गंभीरावस्था में उसे नानौता सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र पर भर्ती कराया गयाए जहां डाक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। इस युवक के मरने की सूचना जैसे ही घटना स्थल पर पहुंची तो वह उग्र हो गए और उन्होंने आठ दलितों के घरों में आग लगा दी। यहां आग बुझाने आई फायर बिग्रेड की गाड़ी में तोडफोड़ करते हुए पुलिस की तीन जीप में आग लगा दी गई। सूचना पर पहुंचे देवबंद कोतवाल चमन सिंह चावड़ा ने उपद्रवियोंं को रोकने का प्रयास किया तो उपद्रवियों ने उन पर भी पथराव किया गयाए जिस कारण वह भी घायल हो गए। इस घटना में एक दर्जन से अधिक लोग घायल हो गए।

बाद में मंदिर के सामने उपलों के ढेर कूप में आग लगा दी। इस दौरान पुलिस बल मूकदर्शक बनी रही। बाद में डीएम एनपी सिंह व एसएसपी सुभाष चंद दुबे भारी पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंचे और किसी तरह हालात को नियंत्रित करने का काम शुरु किया। मौके पर डीआईजी सहित अधिकारी और भारी संख्या में पुलिस बल मौजूद है। फिलहाल इलाके में तनाव की स्थिति बनी हुई है।

You May Also Like

English News