NEET के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में बड़ी चुनौती देने वाली छात्रा ने की आत्महत्या….

मेडिकल में दाखिले के लिए नीट के खिलाफ जंग छेड़ने वाली तमिलनाडु की होनहार छात्रा अनीता ने शुक्रवार को आत्महत्या कर ली. अनीता ने मेडिकल में दाखिला नहीं मिलने से निराश होकर यह कदम उठाया. अनीता की मौत से पूरे तमिलनाडु में शोक की लहर है.NEET के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में बड़ी चुनौती देने वाली छात्रा ने की आत्महत्या....स्वाइन फ्लू का कहर: 23 मरीजों को हुआ स्वाइन फ्लू, अब तक मरीजों की संख्या बढ़कर 120 हो गई

पिता हैं दिहाड़ी मजदूर

17 साल की अनीता अरियालुर जिले के कुझुमुर गांव की रहने वाली थी. उसने अपने घर में खुदकुशी की. अनुसूचित जाति से ताल्लुक रखने वाली छात्रा के पिता दिहाड़ी मजदूर हैं. अनीता ने तमिलनाडु बोर्ड की 12वीं की परीक्षा में 1,200 में से 1,176 अंक प्राप्त किए थे, मगर राष्ट्रीय पात्रता एवं प्रवेश परीक्षा (नीट) में वह क्वालिफाई नहीं कर पाई.

नीट में मिले थे महज 86 अंक

नीट की परीक्षा में अनीता को 700 में से महज 86 अंक ही मिले थे. जिसके बाद उसने पिछले महीने केवल नीट के अंकों के आधार पर स्नातक चिकित्सा पाठ्यक्रमों में प्रवेश की मांग करने वाली एक याचिका के विरोध में सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था.

नीट का पेपर नहीं कर रहा छात्रों से न्याय

अनीता ने अपनी याचिका में कहा था कि नीट के प्रश्नपत्र काफी कठिन और पूरी तरह सीबीएसई के पाठ्यक्रम पर आधारित थे. उसने कहा था कि नीट परीक्षा का प्रारूप राज्य के पाठ्यक्रम को पढ़ने वाले छात्रों के साथ न्याय नहीं कर रहा है.

SC ने दिया था राज्य सरकार को आदेश 

गौरतलब है कि गत 22 अगस्त को सुप्रीम कोर्ट ने तमिलनाडु सरकार को नीट के आधार पर मेडिकल में दाखिला शुरू करने का आदेश दिया था. यह फैसला तमिलनाडु के अध्यादेश को केंद्र से मंजूरी नहीं मिलने के बाद आया था. इसमें राज्य के छात्रों को नीट से एक साल की छूट देने की मांग की गई थी.

पूर्व केंद्रीय मंत्री ने केंद्र और राज्य सरकार को ठहराया जिम्मेदार

इस मामले में राजनीतिक प्रतिक्रियाएं भी लगातार आ रहीं हैं. पूर्व केंद्रीय मंत्री और PMK नेता अंबुमणि रामदास ने अनीता की मौत के लिए केंद्र और राज्य सरकार को जिम्मेदार ठहराया है. उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार और राज्य के मुख्यमंत्री पलानीसामी को इसकी जिम्मेदारी लेनी चाहिए. उन्होंने छात्रों को आश्वासन दिया था कि तमिलनाडु को नीट से एक साल के लिए छूट मिलेगी.

फिल्मी हस्तियों ने भी जताया शोक

वहीं तमिल सुपर स्टार रजनीकांत और कमल हासन ने भी अनीता की मौत पर शोक जताया. शनिवार को कमल हासन अनीता के परिवार से मिलने के लिए उनके गांव कुझुमुर जा सकते हैं.

You May Also Like

English News